केवल परंपरा के लिए नहीं है पान, जानें हेल्थ संबंधी लाभ

IndiaTvd583d6_betel

पान खाने की परंपरा अपने देश में काफी प्राचीन है। राजा महाराजाओं के समय से पान भारतीय परंपरा का अहम हिस्सा रहा है। फिर किसी भी शुभ कार्य या पूजा के दौरान भी पान के पत्तों को विशेष महत्व दिया जाता है। तुलसी, पान आदि को भारतीय सभ्यता में विशेष महत्व दिए जाने का कारण इनके स्वास्थ्यवर्धक फायदे हैं। हालांकि तंबाकू के साथ खाने से पान लाभकारी नहीं होता, लेकिन यदि आप केवल पान के पत्ते का इस्तेमाल करें, तो यह काफी स्वास्थ्यवर्धक होता है। कुछ अन्य पदार्थ जैसे कि इलायची, लौंग और चूना आदि के साथ भी पान फायदेमंद होता है।

पाचन शक्ति बढ़ाता है:

पान का सेवन पाचन शक्ति बढ़ाता है। यदि आप किसी दिन अच्छे स्वाद के कारण अधिक भोजन कर लें, तो पान चबाएं, राहत मिलेगी। पान चबाने से मुंह में सलाइवा अधिक मात्रा में निर्मित होता है, जिस कारण, पाचन शक्ति बढ़ जाती है।

शरीर की दुर्गंध हटाता है:

यदि आपको अत्यधिक पसीना आता है, जिस कारण या यूं भी आपके शरीर से दुर्गंध आती है, तो इसका इलाज पान में छुपा हुआ है। पान के पांच पत्ते लें, जिन्हें, दो कप पानी में उबालें। जब पानी वाष्पित होकर, आधा रह जाए, तो इसे उतार लें और ठंडा होने के बाद पिएं। शरीर की दुर्गंध की समस्या गायब हो जाएगी।

जलने का करता है उपचार :

यदि किसी वजह से शरीर का कोई हिस्सा जल गया है, तो वहां पर पान का पत्ता लगाएं, राहत मिलेगी। पान के पत्ते को पीसकर उसे जले हुए क्षेत्र में लगाएं और फिर कुछ समय के लिए यूं ही छोड़ दें। जलन से राहत मिलती है। यदि आप इस स्थान पर कुछ समय के बाद. शहद लगाते हैं, तो घाव भी जल्दी ठीक होगा।

खांसी में राहत :

खांसी की समस्या कितनी भी विकट हो, पान का पत्ता उसका उपचार करने में सक्षम है। इसके लिए करीब 10 पान के पत्ते लें और उन्हें तीन मध्यम आकार के गिलास के बराबर पानी में डाल लें। इस मिश्रण को उबालें और जब पानी उबल कर एक तिहाई रह जाए, तो उसे उतार कर ठंडा करें। इस मिश्रण को दिन में तीन बार पिएं, खांसी की समस्या दूर होगी।

पायरिया का इलाज :

यदि आपके मुंह से लगातार बदबू आती है और दांतों से खून का रिसाव होता है तो आप पायरिया के शिकार हैं। इस बीमारी के इलाज में भी पान के पत्ता काफी कारगर हैं। पान के पत्ते में 10 ग्राम कपूर रखकर दिन में तीन बार चबाएं, लेकिन ध्यान रखें कि थूक गले के नीचे न उतरे या इसे निगलें नहीं। लाभ होगा।

पान के साथ चूना खाने के लाभ:

आप अकेले पान के साथ सीमित मात्रा में चूना भी खा सकते हैं। यदि आपके शरीर में कैल्शियम की कमी है या फिर आपके शहर में प्रदाय किए जा रहे पानी में पर्याप्त कैल्शियम नहीं है, तो आप पान के साथ चूने का सेवन करें शरीर में कैल्शियम की कमी की पूर्ति होगी।

Advertisements