वन विभाग की सह पर धड़ल्ले से हो रही है पेड़ों की कटाई

04d0f2696d16566e5bdfbe403fbe427b_XL

साहिबगंज: केंद्र तथा राज्य सरकार पर्यावरण को दूषित होने से बचाने के लिए करोड़ों रुपए खर्च कर पौधे लगाने व पेड़ों को बचाने का प्रयास कर रही है। लेकिन वन विभाग की मिलीभगत से पेड़ों की कटाई धड़ल्ले से जारी है।

साहिबगंज जिले के गंगतिया, खटापानी, निपनिया, जया पहाड़ जोकानी बेडो आदि गाँवों से दर्जनों से भी अधिक हरे पेड़ों की कटाई हो रही है। प्रदेश सरकार के सख्त निर्देशों के बाद भी इन क्षेत्रों में भारी मात्रा में पेड़ों की अवैध कटाई जारी है।

02_09_2012-02arr43-c-2गंगटिया ऊपर टोला के पास विशाल आम के पेड़ की कटाई करते हुए ग्रामीणों ने देखा। मंगलवार की शाम से शुरू होकर रात तक उस पेड़ की कटाई की गई, सुबह होते ही ट्रैक्टर पर लादकर ले जाने का प्रयास किया जा रहा था, लेकिन किसी ने मोबाईल पर इसकी जानकारी फारेस्ट रेंजर को दे दी, रेंजर द्वारा त्वरित कार्रवाई का आश्वासन दिया गया और बाद में यह जानकारी विभागीय लोगों द्वारा बिचौलियों को दे दी गई। नतीज़ा यह हुआ कि बिचौलियों ने ट्रैक्टर को खाली करा कर हटवा दिया।

धंधे में जुड़े मजदूर बताते हैं कि पेड़ों की कटाई इस तरह की जाती है कि उस स्थान पर कोई निशान ना मिले, पेड़ों को जड़ से काट कर निकाल दिया जाता है और उस पर मिटटी फेंक देते हैं ताकि उसकी पुष्टि ना हो सके कि वहां कोई पेड़ था।

वहीं वन विभाग के कर्मचारी पैसा लेकर अपनी आंख बंद कर लेते हैं। सूचना देने वाले को वनकर्मियों द्वारा धमकाया जाता है। अगर इसकी शिकायत नही हुई तो मामला रफा दफा हो जाता है अन्यथा उच्च अधिकारियों को सूचना मिलने पर वन विभाग के कर्मचारी अपनी साख बचाने के लिए मामूली जुर्माना लगाकर छोड़ दिया जाता है।

Advertisements