अस्पताल कर्मियों को लापरवही से हुई शर्पदंश के शिकार छात्र की मौत, छात्र संघ एवं परिजनों ने किया जमकर हंगामा।

DSC_3311
स्टॉक रूम में एंटीवेनम दिखती हॉस्पिटल कर्मचारी
बरहरवा: साहेबगंज के जिले के बरहरवा स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के चिकित्सक एवं  स्वास्थ्य कर्मियों की लापरवाही से एक छात्र की मौत का मामला प्रकाश में आया है।
 
WhatsApp Image 2017-08-11 at 9.35.29 PM
मृतक – देवव्रत मंडल

मृतक देवव्रत मंडल बरहरवा के झिकटिया टोला में लाल कोठी में किराए के मकान में रहके कॉलेज की पढ़ाई कर रहा था। बुधवार की देर रात को उसे किसी जहरीले साँप ने हाथ मे काट लिया। देवव्रत के मित्र दिवाकर मंडल ने तुरंत ही उसके हाथ मे दो जगह बंधन बंधी और उसको लेकर पहले वो डॉक्टर अरविंद कुमार के पास गया, डॉक्टर अरविंद की ने कहा कि मैं इसका इलाज नहीं कर पाऊंगा इसे अस्पताल में लेके जाएं। दोनों रिक्से में देर रात हॉस्पिटल आएं, जहाँ ना ही कोई डॉक्टर उपस्थित था और नाही कोई कर्मचारी। दिवाकर द्वारा सोये हुए कर्मचारियों को जगाने और काफी मिन्नतों के बाद 4th ग्रेड के एक कर्मचारी ने शर्पदंश के शिकार छात्र को देखा और कहा कि इसको कोई साँप नहीं काटा है और उसने हाथ के बंधन को खोल दिया। बंधन के खोलने के बाद उसकी हालत गंभीर होने लगी तो अस्पताल कर्मचारी ने यह कहकर रेफर कर दिया को इसका एंटीवेनम अस्पताल में उपलब्ध नहीं है इसे कहीं और लेके जाएं, और हॉस्पिटल ने उन्हें एम्बुलेंस की व्यवस्था करके नहीं दी। दिवाकर का कहना है कि फिर उसने बरहरवा स्टेशन चौक से एक ऑटो भाड़ा किया और अपने मित्र को लेके सितापहाड़ स्थित अस्पताल लेके गया, जहां सितापहाड़ अस्पताल कर्मियों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

शुक्रवार को सूत्रों से जानकारी प्राप्त हुई कि अस्पताल में शर्पदंश के इलाज हेतु एंटीवेनम उपलध है और अस्पताल कर्मियों ने इलाज किये बिना छात्र को रेफर कर दिया। जानकारी प्राप्त होने पर परिजन एवं छात्र संघ के लोग पुलिस अधिकारियों के साथ अस्पताल पहुँचे और अस्पताल में उपलब्ध एंटीवेनम के स्टॉक की जानकारी माँगी। अस्पताल में एक भी चिकित्सक उपलब्ध नहीं थे।जानकारी देने से इनकार करने पर नाराज़ लोगों का गुस्सा अस्पताल कर्मियों पे फुट पड़ा। घंटो हंगामे के बाद स्टॉक रूम के खुलने पर पाया गया कि एंटीवेनम की 5-6 शीशियां अस्पताल में उपलब्ध थीं।
गुस्साए परिजनों ने बरहरवा थाना में स्वास्थ्य केंद्र प्रभारी एवं कर्मचारियों के ख़िलाफ़ लापरवाही कर पुत्र के जान लेने की प्राथमिकी दर्ज करा दी है। पुलिस मामले की छानबीन में जुट गई है। परिजनों का रो रो कर बुरा हाल है।
Advertisements