पाकुड़ विधानसभा के अनेकों गाँव अब भी हैं विकाश से कोसो दूर, सड़कें जर्जर, पेयजल की व्यवस्था नहीं।

vlcsnap-2017-08-14-22h30m53s586
बिशनपुर में सालों से बेकार पड़ी पानी की टंकी

बरहरवा: चुनाव के करीब आते ही विभिन्न राजनैतिक दलों ने उम्मीदवार अपने निर्वाचन क्षेत्र में बहुत सी योजनाएँ देने और क्षेत्र में विकास करने के दावे करते है, परंतु चुनाव जीतने के बाद से ही वादों के रंग बदल जाते हैं।ऐसा ही कुछ हाल पाकुड़ विधानसभा के बरहरवा प्रखंड स्थित बिशनपुर पंचायत की है। बिशनपुर में ना तो पेयजल की कोई व्यवस्ता है और ना ही गाँव की सड़कों की मरम्मत दशकों से हुई है।

vlcsnap-2017-08-14-22h35m16s162
बन्द पड़ा चापाकल

राष्ट्रीय ग्रामीण जलापूर्ति कार्यक्रम अंतर्गत विधायक निधि से बिशनपुर पंचायत जलापूर्ति के लिए लगभग 32 लाख प्रति टंकी की लागत से दो टंकियो का निर्माण 2014 में किया गया।

परंतु ग्रामीणों के अनुसार टंकी भी बनी गाँव मे और पानी के पाइप भी बिछाए गए लेकिन पानी कभी सप्लाई नहीं किया गया, यहाँ तक कि मोटर में बिजली हेतु अब तक पोल से कनेक्शन भी नहीं किया गया है। गाँव के चापाकल सालों से खराब पड़े हुए हैं। लगभग 5000 की आबादी वाले बिशनपुर में पेयजल के लिए गाँव वालों को या तो आधे किलोमीटर दूर जाना पड़ता है या फिर पास के कुआँ पर निर्भर होना पड़ता है। बारिश में मौसम में कुआँ का पानी पीने से बीमारियों के होने का खतरा भी बना रहता है।

vlcsnap-2017-08-14-22h35m42s524
जर्जर हालत में सड़क

गाँव के निवासी मोसमत ठाकुर कहते हैं कि उनका जन्म इसी गाँव मे हुआ और आज तक उन्होंने इस गांव की सड़क की मरम्मत होते नहीं देखा सड़कें जर्जर होने के कारण आये दिन दुर्घटनाएं होती रहती हैं।

पाकुड़ विधानसभा क्षेत्र में महाराजपुर एवं कोटालपोखर ग्राम के भी सड़कें तालाब में तब्दील हो गईं हैं, सालों से नया सड़क बनना तो दूर, पुराने सड़कों की मरम्मत भी नहीं की गई है।

गाँव वालों का कहना है कि ना तो कोई उनकी शिकायत सुनता है ना ही क्षेत्र के जनप्रतिनिधि कभी उनके तकलीफों का जायज़ा लेने आते हैं।

 

Advertisements