जहरीली शराब से 16 लोगों की मौत के विरोध में, रांची बंद का दिखा आंशिक असर

WM7 News copy

रांची: राजधानी रांची में जहरीली शराब से 16 लोगों की मौत के विरोध में कांग्रेस सहित सभी विपक्षी दलों के आह्वान पर बंद का आंशिक असर रहा। बंद के दौरान मेनरोड में कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने सड़कों पर उतरकर विरोध जताया और सरकार के विरुद्ध जमकर नारेबाजी की। बंद समर्थकों ने व्यस्ततम अपर बाजार और रांची के मेनरोड में जबरन दुकानों को बंद कराया। जहरीली शराब से अब तक हुई 16 मौतों के विरोध में कांग्रेस के आह्वान पर शनिवार को रांची बंद को झामुमो, झाविमो, राजद, वाम दल ने समर्थन दिया था, मगर रांची बंद के दौरान इन दलों के नेताओं की मौजूदगी नहीं के बराबर रही। पूर्व मंत्री सुबोधकांत सहाय दिल्ली में व्यस्त रहे, वहीं प्रदेश अध्यक्ष सुखदेव भगत रांची बंद का मॉनिटरिंग कर रहे थे। हालांकि कांग्रेस नेता आलोक दूबे, शमशेर आलम, राजेश ठाकुर, आभा सिन्हा सरीके प्रदेश कांग्रेस के नेता बंद कराते दिखे। इस दौरान इनकी पुलिस के साथ तीखी नोकझोंक भी हुई। दुकानों को बंद कराने के दौरान पुलिस काफी मुस्तैद रही। पुलिस ने सौ से अधिक बंद समर्थकों को गिरफ्तार कर मोरहाबादी स्थित कैंप जेल भेजा।

Advertisements