नेतरहाट में रघुवर कैबिनेट की बैठक, नहीं पहुंचे भाजपा के दर्जनों नाराज विधायक

IndiaTvdc4d12_Raghwar
नेतरहाट में रघुवर कैबिनेट की बैठक, नहीं पहुंचे भाजपा के दर्जनों नाराज विधायक

राँची: रघुवर सरकार से नाराज भाजपा विधायकों की नाराजगी ख़त्म होने का नाम नहीं ले रही है। भाजपा के भीतर मचे कोहराम का असर आज नेतरहाट में होने वाली बैठक में भी देखने को मिला है। झारखंड कैबिनेट की बैठक आज नेतरहाट में होगी। इसके अलावा नियोजन नीति की समीक्षा के लिए मंत्री अमर कुमार बाउरी की अध्यक्षता वाली कमेटी और बीजेपी विधायकों की बैठक भी यहीं होगी। मगर खबर है की इस बैठक में रघुवर सरकार में खाद्य आपूर्ति मंत्री सरयू राय और नीलकंठ सिंह मुंडा शामिल नहीं होंगे। वहीं बीजेपी के कई अन्य विधायक भी नेतरहाट नहीं जाएंगे। भाजपा के कई असंतुष्ट और नाराज विधायकों ने इसके लिए पर्याप्त बहाना भी ढूंढ लिया है। वही कुछ विधायकों ने साफ़ साफ़ रघुवर सरकार पर हमला करते हुए कहा की वे नेतरहाट पिकनिक मनाने नहीं जायेंगे।

क्या बोले विधायक और मंत्री:

  • नेतरहाट में बीजेपी विधायकों की बैठक के बारे में पूछने पर विधायक लक्ष्मण टुडू ने कहा कि वह नहीं जा पाएंगे। उनके पिता जी की तबीयत खराब है।
  • मेनका सरदार ने भी कहा कि वह नहीं जा पाएंगी। योगेश्वर महतो बाटुल का कहना है कि उनका पहले से कहीं प्रोग्राम है, इसलिए नेतरहाट नहीं जा पाएंगे।
  • वहीं विधायक ताला मरांडी का कहना है कि उन्हें पिकनिक मनाने का शौक नहीं है। वह तो क्षेत्र की जनता की समस्याओं के समाधान में लगेंगे।
  • जय प्रकाश वर्मा ने भी कहा कि वह राज्य से बाहर हैं, इसलिए नेतरहाट की बैठक में शामिल नहीं हो पाएंगे।
  • ढुल्लू महतो ने भी कहा कि वह नहीं जा पाएंगे।
  • शि‌व शंकर उरांव का कहना था कि वह राज्य से बाहर हैं, अगर कल तक आएंगे तो चले जाएंगे।
  • साधु चरण महतो का कहना था कि क्षेत्र का काम करेंगे या पिकनिक मनाएंगे।

उधर मंगलवार को पूर्व मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा दिल्ली पहुंचे, लेकिन किसी बड़े नेता से बातचीत नहीं हुई। सरयू राय भी अभी दिल्ली में ही हैं।

मुख्य सचेतक की बैठक में भी नहीं गए सात विधायक:

असंतुष्ट विधायकों की नाराजगी दूर करने के लिए बीजेपी के मुख्य सचेतक राधाकृष्ण किशोर ने अपने आवास पर मंगलवार शाम बैठक बुलाई थी। इस बैठक में विमला प्रधान, साधु चरण महतो, लक्ष्मण टुडू, मेनका सरदार, शिवशंकर उरांव, नागेंद्र महतो, योगेश्वर महतो बाटुल को बुलाया गया था। मगर कोई नहीं गया। इन विधायकों की ओर से किशोर को बता दिया गया कि बैठक में 26 विधायकों को एक साथ बुलाएं, जिन्होंने स्थानीय व नियोजन नीति को लेकर सीएम को पत्र लिखा है।

Advertisements