आस्ट्रेलियाई सुपरफण्ड्स के लिये भारत में निवेश की अपार संभावनायें: सुरेश प्रभु

suresh-prabhu-story-fb_647_022416052414

आस्ट्रेलियाई सुपरफण्ड्स के एक पांच सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल ने आज यहां वाणिज्य एवं उद्योग तथा नागरिक उड्ड्यन मंत्री सुरेश प्रभु से भेंट की। इस बैठक में मंत्री महोदय ने भारत की विकास यात्रा की संभावनाओं का जिक्र किया और देश में दीर्घकालिक अवधि में व्यापार की स्थिरता और सुनिश्चितता का भरोसा दिलाया। उन्होंने कहा कि भारत आस्ट्रेलियाई सुपरफण्ड्स के लिये निवेश की प्रचुर संभावनायें उपलब्ध कराता है और भारत में निवेश के लिये उनसे बात करना सरकार की प्राथमिकता है।

2.6 खरब आस्ट्रेलियाई डॉलर के मूल्यांकन के साथ आस्ट्रेलिया के सेवानिवृत्त कोष आकार की दृष्टि से विश्व के सबसे बड़े कोषों में से एक हैं। ये कोष विश्व के अनेक बाजारों में निवेश करते हैं। लेकिन औसत से ज्यादा लाभांश देने के बावजूद भारतीय बाजारों में उनका निवेश बेहद सीमित है। औसत 7% वार्षिक विकास दर के साथ साथ भारत विश्व की प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं में से सबसे तेज बढ़ती अर्थव्यवस्था है।

आस्ट्रेलिया-भारत द्विपक्षीय निवेश सहयोग को दोनों ही देशों के सर्वोच्च स्तर से एक नया समर्थन प्राप्त हुआ है।

इस वर्ष अप्रैल 2018 में राष्ट्रमण्डल देशों की सरकार के मुखियाओं की एक बैठक के दौरान एक अलग मुलाकात में प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने उनके आस्ट्रेलियाई समकक्ष के साथ आस्ट्रेलियाई सुपरफण्ड्स के लिये भारतीय अर्थव्यवस्था में उपलब्ध निवेश के अवसरों पर चर्चा की थी।

आस्ट्रेलिया ने हाल ही में भारत के लिये एक आर्थिक रणनीति को लागू किया है जिसमें संस्तुति की गयी है कि वर्ष 2035 तक आस्ट्रेलियाई कंपनियों को भारत को अपने निर्यात के लिये तीन सबसे बड़े बाजारों में एक के स्तर तक उठाना चाहिये और आस्ट्रेलिया के रणनीतिक साझीदारों और अन्य मामलों में भारत को अपने आंतरिक केंद्र का हिस्सा बनाना चाहिये।

Advertisements