साहिबगंज जिला विकास समिति ने खासमहल उन्मूलन को लेकर चलाया हस्ताक्षर अभियान

WhatsApp Image 2018-10-05 at 14.29.49 (1)

साहेबगंज: साहिबगंज जिला विकास समिति के तत्वावधान में साहिबगंज शहर से काला कानून खासमहल के उन्मूलन को लेकर हस्ताक्षर अभियान का आरंभ किया गया। इस कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे समिति के अध्यक्ष अरविंद कुमार गुप्ता ने कहा कि साहिबगंज शहर की जमीन को मनगढ़ंत खास महल की समाप्ति को लेकर शुक्रवार को साहिबगंज के पटेल चौक पर हस्ताक्षर अभियान का शुभारंभ किया गया है।

ज्ञातव्य हो कि साहिबगंज का जमीन रजिस्ट्री जमीन था परंतु एक साजिश के तहत इसे खास महल का जमीन मान लिया गया जो कि शहर की जनता के साथ सरासर नाइंसाफी है।

साहिबगंज जिला विकास समिति के अध्यक्ष अरविंद कुमार गुप्ता ने कहा कि पूर्व में झारखंड विधानसभा की 2 जांच समितियों ने, पहला जोबा मांझी की अध्यक्षता वाली समिति एवं दूसरा विशेश्वर खान की अध्यक्षता वाली समिति ने स्पष्ट किया है की साहिबगंज शहर की जमीन खास महल की जमीन नहीं है परंतु वर्तमान सरकार इस पर अमल नहीं कर रही है जो बिल्कुल खेद का विषय है। अगर झारखंड सरकार इसे पूर्व की तरह रजिस्ट्री जमीन घोषित नहीं करती है तो साहिबगंज की जनता सड़क पर उतरने का काम करेगी।

इस कार्यक्रम का नेतृत्व कर रहे समिति के सचिव विनोद कुमार यादव ने कहा कि आज प्रधानमंत्री को संबोधित हस्ताक्षर अभियान चलाया जा रहा है। इस पर प्रधानमंत्री को अभिलंब  निर्णय लेना चाहिए। पूर्व में सरकार ने साहिबगंज की जमीन अधिग्रहण के बदले प्रभावित नागरिकों को मुआवजा भी प्रदान किया है जो यह साबित करने के लिए काफी है की साहिबगंज की जमीन रैयती जमीन है, लेकिन सरकार तानाशाही रवैया अपना रही है। अगर साहिबगंज को मनगढ़ंत खास महाल से मुक्त नहीं किया गया तो जोरदार आंदोलन किया जाएगा।

इस हस्ताक्षर अभियान कार्यक्रम में साहिबगंज के सैकड़ों नागरिक शामिल हुए। मुख्य रूप से साहिबगंज जिला विकास समिति के अध्यक्ष अरविंद कुमार गुप्ता, सचिव विनोद कुमार यादव, अनुकूल चंद्र मिश्रा, मुरलीधर ठाकुर, मोहम्मद सद्दाम हुसैन, निजामुद्दीन अंसारी, बसंत श्रीवास्तव, दिलीप गुप्ता, मुरलीधर तिवारी, कुंदन शाह, गोपाल चोखानी, दिनेश पासवान, सत्य प्रकाश गोस्वामी, अनूप लाल हरी, मिथिलेश सिंह, अमरेंद्र ठाकुर, निरंजन यादव, अशोक कुमार सिंहा उपस्थित थे।

 

संवाददाता: संजीव सागर, साहेबगंज, झारखण्ड

 

Advertisements