आकांक्षी जिला के निर्देशकों की हुई समीक्षा बैठक, आयुक्त ने दिया जिला प्रशासन को आवश्यक निर्देश

press_release_14514_06-10-2018

साहेबगंज: आयुक्त संताल परगना प्रमण्डल  भगवान दास की अध्यक्षता में आकांक्षी जिला के निदेशांकों की समीक्षा बैठक समाहरणालय सभागार में सम्पन्न हुई।

प्रभारी उपायुक्त  नैंसी सहाय ने नीति आयोग के द्वारा स्वास्थ्य और पोषण, आधारभूत संरचना, शिक्षा, कौशल विकास इत्यादि के बारे में   निर्धारित निदेशांकों  की विस्तृत जानकारी पावर पॉइंट प्रेजेंटेशन (डिजिटल डिस्प्ले) के माध्यम से दी।

बैठक के दौरान बताया गया कि निदेशांकों में सुधार करने हेतु तत्काल डी एम एफ टी और अनाबद्ध निधि के द्वारा आवश्यक कार्य किया जा रहा है। स्वास्थ्य और पोषण के सम्बन्ध में 35 करोड़ का बजट बनाकर नीति आयोग को भेजा गया है।

शिक्षा के स्तर को ऊपर करने हेतु प्रत्येक प्रखण्ड में एक एक आदर्श स्कूल बनाने का कार्य किया जा रहा है। स्मार्ट क्लास भी शुरू किया जाएगा। कुल 60 लाख के बजट से कार्य किया जा रहा है। नीति आयोग के द्वारा मनोनित पिरामल फाउंडेशन के माध्यम से ज्ञान ज्योति कार्यक्रम की शुरुआत की गई, जिसके अंतर्गत विद्यार्थियों , शिक्षकों और अभिभावकों को एक मंच पर लाया जा रहा है। फेज 2 में कॉलेज के विर्द्यार्थियों की सहायता से स्कूलों में कार्य किया जाएगा।

कृषि और अलाइड सेक्टर में फॉरवर्ड और बैकवर्ड लिंकेज को उपलब्ध कराने का काम  किया जा रहा है। जल संचय के लिए जल छाजन के तरीके अपनाए जा रहे हैं। मधुमक्खी पालन का कार्य किया जा रहा है। डेयरी प्लांट साहेबगंज जिले में जल्द खुलने वाला है।

आधारभूत संरचना के अन्तर्गत प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत 34000 आवास बनाने का लक्ष्य मिला है। वही जिले में 130000  शौचालय बनाने का लक्ष्य दिया गया है। सड़कों के निर्माण पर 10 करोड़ खर्च किये जाएंगे।

वित्तीय समावेशन के लिए जिले में लगातार कार्य किया जा रहा है।  प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना,  प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना, अटल पेंशन योजना, मुद्रा योजना के अन्तर्गत लाभुकों को कैंप लगाकर लाभान्वित किया है रहा है।

शिक्षा में 8 निदेशांकों में सुधार के लिए कार्य किया जा रहा है। सभी स्कूलों में शौचालय और पेयजल की सुविधा सुनिश्चित करने का कार्य किया जा रहा है। वर्तमान में 94 प्रतिशत स्कूलों में यह सुविधा दी जा रही है। 63 प्रतिशत  स्कूलों में विद्युत् व्यवस्था बहाल हो चुकी है। शेष के लिए विद्युत् विभाग कार्य कर रही है।

कृषि विभाग के द्वारा  25 गांव से सॉइल हेल्थ कार्ड के लिए मिट्टी का नमूना लिया गया है। 49000 हेक्टेयर क्षेत्र में  90 प्रतिशत कृषि भूमि  धान से आच्छादित किया गया है। 25 गांव में फलदार पौधा वितरण किया गया है।

भूमि संरक्षण अन्तर्गत में 90 में 33 तालाब निर्माण का कार्य पूर्ण कर लिया गया है।

कौशल विकास के लिए जिला कौशल विकास समिति बनाई गई है। वन प्रमण्डल पदाधिकारी ने बताया कि साहेबगंज जिले के 30 प्रतिशत क्षेत्र जंगल है। बांस के फर्नीचर तैयार करने में समय कम लगता है। बांस से भी प्लाईवुड का निर्माण किया जा सकता है। बांस में वैल्यू एडीशन कर सुप और टोकरी एवं अन्य ऑर्नामेंटल सामग्री तैयार की जाती हैं। वन समितियों को अत्याधुनिक उपकरण उपलब्ध कराए जा रहे हैं। भगैया सिल्क को बढ़ावा देने के लिए बुनकर ट्रेनिंग सेंटर बनाया जा रहा है। महिलाओं को स्कूल ड्रेस बनाने में सिद्धहस्त करने हेतु मंडरो एवं साहेबगंज में सिलाई मशीन दिया जा रहा है।

आयुक्त ने सिविल सर्जन से स्वास्थ्य के क्षेत्र में नीति आयोग के निदेशांकों के आलोक में किए जा रहे कार्यों की समीक्षा की। चिकित्सकों की कमी की समस्या को दूर करने हेतु जिला स्तर पर नियुक्ति की प्रक्रिया शीघ्र किया जाएगा।

जिला समाज कल्याण पदाधिकारी  विनीता कुमारी ने बताया कि समाज कल्याण के अन्तर्गत कर्मियों को व्यवस्थित तरीके से प्रशिक्षण दिया गया है।  आंगनबाड़ी केंद्रों की अद्यतन स्थिति के बारे में जानकारी दी। कन्वर्जेन्स के द्वारा आंगनबाड़ी केन्द्रों की आधारभूत संरचना में सुधार लाया जा रहा है।

इस अवसर पर पुलिस उपमहानिरीक्षक  राजकुमार लकड़ा,  पुलिस अधीक्षक  एच0 पी0जनार्दनन, वन प्रमण्डल पदाधिकारी मनीष तिवारी, अनुमण्डल पदाधिकारी राजमहल कर्ण सत्यार्थी,  अनुमण्डल पदाधिकारी  साहेबगंज  अमित प्रकाश, निदेशक एन ई 0पी0 मंजूरानी स्वांसी, सिविल सर्जन ऐ 0 के0 सिंह, जिला सुचना विज्ञान पदाधिकारी उमेश कुमार,जिला खनन पदाधिकारी  विभूति कुमार सहित जिलास्तरीय विभागीय एवं तकनीकी पदाधिकारी, सभी बीडीओ और सीओ उपस्थित थे।

संवाददाता: संजीव सागर, साहेबगंज, झारखण्ड 

Advertisements