श्री धर्मेंद्र प्रधान ने भारत में कौशल की कमी के समाधान के लिए कार्यबल की शुरूआत की

image001TR0V

पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस तथा कौशल विकास और उद्यमिता मंत्री श्री धर्मेंद्र प्रधान ने आज विश्‍व आर्थिक मंच (वर्ल्‍ड इकनॉमिक फोरम) के सहयोग से भारत में कौशल की कमी के समाधान के लिए एक कार्यबल की शुरूआत की। यह कार्यबल व्‍यापारजगत की हस्तियों, सरकार, नागरिक समाज, शिक्षा और प्रशिक्षण के क्षेत्रों से जुड़े लोगों को एक साथ लाकर देश में शिक्षा और प्रशिक्षण प्रणालियों को भविष्‍य में तेजी से सुदृढ़ करेगा। श्री धर्मेंद्र प्रधान और इंफोसिस के मुख्‍य कार्यकारी अधिकारी और प्रबंध निदेशक श्री सलिल पारेख इस कार्यबल की अध्‍यक्षता करेंगे। भारत में कौशल की कमी के समाधान के लिए एक कार्य-योजना बनाना और भारतीय कामगारों को भविष्‍य के रोजगार के लिए तैयार करना इस कार्यबल का लक्ष्‍य है।

इस अवसर पर श्री प्रधान ने भारत में कार्य के भविष्‍य पर आधारित एक उद्यम सर्वेक्षण ‘भारत में कार्य का भविष्‍य’ और भारत में युवा आकांक्षियों का एक सर्वेक्षण ‘युवा भारत और कार्य’ नामक रिपोर्ट भी जारी की।

इस कार्यक्रम में श्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि हमारी जनसंख्‍या का आधा से अधिक हिस्‍सा कार्यशील उम्र में है और भारत के सतत समावेशी विकास और उन्‍नति के लिए कौशल विकास महत्‍वपूर्ण होगा।

इनपुट: प्रेस इनफार्मेशन ब्यूरो,  कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्रालय, भारत सरकार

Advertisements