भारत और बांग्‍लादेश के बीच द्विपक्षीय व्‍यापार बढ़ाने के लिए बेहतर सम्‍पर्क

india-bangladeshबांग्‍लादेश जनवरी 2019 में ग्रेटर नोएडा में आयोजित होने वाले आगामी इंडस फूड-II के दौरान बड़े खरीदारों का एक प्रतिनिधिमंडल भारत भेजेगा। इसका आयोजन वाणिज्‍य और उद्योग मंत्रालय के वाणिज्‍य विभाग के साथ संयुक्‍त रूप से किया गया है। ढाका स्थित भारत बांग्‍लादेश चैम्‍बर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्‍ट्री (आईबीसीसीआई) के सचिव और सीईओ जहांगीर-बिन-आलम ने यह घोषणा की। श्री आलम ने कल दिल्‍ली में भारतीय व्‍यापार संवर्धन परिषद (टीपीसीआई) के कार्यालय का दौरा किया और संबद्ध अधिकारियों से बातचीत की। दोनों देशों के बीच 9 अरब डॉलर का द्विपक्षीय व्‍यापार होता है, जिसमें से बांग्‍लादेश 900 मिलियन डॉलर मूल्‍य की वस्‍तुओं का निर्यात करता है।

आईबीसीसीआई के सीईओ ने कहा कि व्‍यापार में वृद्धि बांग्‍लादेश के विकास की प्रक्रिया पर निर्भर करती है। उन्‍होंने कहा कि बांग्‍लादेश आगे बढ़ रहा है अत: भारत और दुनिया के अन्‍य देशों के साथ उसके व्‍यापार में वृद्धि हो रही है। भारत उसका नजदीकी पड़ोसी है, जिसके साथ न केवल बांग्‍लादेश की सीमा लगती है, बल्कि संस्‍कृति, परम्‍पराओं और भाषा की दृष्टि से अपनी जरूरत की वस्‍तुओं के आयात के लिए भी वह भारत की ओर देखता है।

भारत से बांग्‍लादेश को खाद्य और पेय पदार्थों का निर्यात बढ़ाने की संभावना है। इस समय बांग्‍लादेश दुनिया से 5016.4 मिलियन डॉलर मूल्‍य के खाद्य और पेय पदार्थों का आयात करता है, जिसमें भारत का 332.4 मिलियन डॉलर मूल्‍य के निर्यात के साथ पांचवां स्‍थान है।

दोनों देशों के बीच बेहतर सम्‍पर्कों से व्‍यापार को आगे बढ़ाने में काफी मदद मिलेगी।

Advertisements