खनन टास्क फ़ोर्स की कार्रवाई में 12 नाव जब्त, 5 लोग गिरफ्तार

WhatsApp Image 2018-10-14 at 17.12.40

  • अवैध लोडिंग व बिना माइनिंग परीचलान को लेकर हुई कार्रवाई
  • अधिकारी को देखते ही कई नाव चालक पत्थर लोड नाव लेकर भागे
  • एक भी पत्थर लोड नाव को गंगा में चलने की अनुमति नहीं: उपायुक्त

साहिबगंज: जिला प्रशासन के द्वारा बड़ी कार्रवाई करते हुए अहले सुबह जिला मुख्यालय से करीब 5 किलोमीटर दूर स्थित मदनसाही समदानाला गंगा घाट से अवैध पत्थर परिचालन को लेकर कुल 12 मोटर नाव सहित पांच लोग को पुलिस ने हिरासत में लिया है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार विगत दिनों पहले साहिबगंज आए संथाल आयुक्त भगवान प्रसाद के द्वारा जिला के उपायुक्त व खनन पदाधिकारी को खनन की हुई समीक्षात्मक बैठक में अवैध खनन परीचलान को लेकर इन पत्थर माफिया के ऊपर कड़ी कार्रवाई करने का निर्देश दिया था। वहीं उन्होंने कहा था कि साहिबगंज में अवैध खनन व बिना माइनिंग के परिवाहन धड़ल्ले से किया जा रहा है। जिससे राज्य को राजस्व की क्षति के साथ-साथ जिले की भी बदनामी हो रही है। इसी आलोक में जिला उपायुक्त के निर्देश पर खनन टास्कफोर्स का गठन कर उपरोक्त अवैध पत्थर भंडारण व ओवरलोड नाव परिचालन को लेकर छापेमारी की गई।

जिला खनन पदाधिकारी विभूति प्रसाद के अनुसार अवैध पत्थर लोड कर रहे कुल 12 नाव सहित पांच लोगों को हिरासत में लिया गया है। वहीं खनन पदाधिकारी से गंगानदी में पत्थर लोड नाव परिचालन को लेकर पूछे गए सवाल में उन्होंने कहा कि पूर्व में सिर्फ 7 नाविकों को नदी में पत्थर लोड परिचालन को लेकर कागजी अनुमति दी गई थी, परन्तु इसके आड़ में पत्थर माफियाओं के द्वारा करीब दो सौ नाव का अवैध परिचालन करवाया जाने लगा। जिसे तत्काल प्रभाव से रद्द किया जा चुका है। वहीं उन्होंने कहा कि जिला उपायुक्त के निर्देशानुसार गंगा नदी में एक भी मोटर नाव परिचालन को अनुमति फिलहाल नहीं है, जो भी पत्थर माफिया के द्वारा नाव परिचालन करवाया जा रहा है, बिल्कुल अवैध है।

विदित हो कि जिला प्रशासन के लाख कोशिशों के बावजूद पत्थर माफियाओं के हौसले इतने बुलंद हैं, कि कभी-कभार हुई कार्रवाई के बावजूद पुन: इन लोगों के द्वारा उक्त अवैध कार्य को सुचारु करने में तनिक देर भी नहीं लगती। वहीं विभागीय मिलीभगत से इनके हाथ इतने मजबूत हैं कि तुरंत सब कुछ मैनेज कर लिया जाता है।

बेखौफ दौड़ते हैं,ओवरलोड वाहन:

जिला के मिर्जाचौकी, साहिबगंज, राजमहल, बरहेट, बोरियों, बरहरवा, कोटलपोखर सहित अन्य प्रखंडों में रात के अंधेरे व दिन के उजाले में पत्थर व बालू लदे ओवरलोड वाहन बेखौफ रूप से सड़क पर दौड़ते नजर आते हैं। अधिकारीयों के संज्ञान में होने के बावजूद सिर्फ कार्रवाई के नाम पर गिने-चुने ट्रक पकड़ क्र खानापूर्ति की जाती है।

समाजसेवी व शिवसेना जिला प्रमुख मुरलीधर तिवारी ने बताया कि अवैध परिवहन बिना संबंधित अधिकारी व थाना के मिलीभगत से संभव नहीं हो सकता। अगर इन विभागों की स्वतंत्र जांच करवाई जाए तो कई राज सामने खुल सकते हैं।

क्या कहते हैं जिला उपायुक्त?

अवैध खनन व परिचालन को लेकर उपायुक्त संदीप सिंह ने कहा कि गंगा नदी में एक भी मोटर चालित नाव को पत्थर ढोने की अनुमति नहीं दी गई है। ओवरलोड बिना माइनिंग के परिवाहन को लेकर खनन टास्क फोर्स के द्वारा लगातार गाड़ी जब्त करने की औचक कार्रवाई की जा रही है और यह कार्रवाई आगे भी जारी रहेगी। जिले में किसी को भी अवैध कार्य करने की अनुमति नहीं है।

जिला खनन टास्क फोर्स के छापेमारी दल में खनन पदाधिकारी के अलावा अनुमंडल पदाधिकारी अमित प्रकाश, अंचल अधिकारी राम नरेश सोनी, जिला परिवहन पदाधिकारी शवासी, मुफसिल थाना प्रभारी सी पी सिंह, जिरवाबाड़ी ओपी थाना प्रभारी रामानुज वर्मा सहित करीब दर्जनों पुलिस बल के जवान मौजूद थे।

संवाददाता: संजीव सागर, साहेबगंज, झारखण्ड

 

Advertisements