श्री मनसुख मंडाविया ने प्रधानमंत्री भारतीय जनौषधि परियोजना के भंडारगृह का किया उद्घाटन

Mansukh-Mandaviya
मनसुख मंडाविया (फाइल फोटो)

गुरुग्राम: केन्‍द्रीय रसायन एवं उर्वरक और सड़क परिवहन एवं राजमार्ग, नौवहन राज्‍यमंत्री श्री मनसुख मंडाविया ने मंगलवार को गुरुग्राम के बिलासपुर में भारतीय फार्मा पीएसयू ब्‍यूरो (बीपीपीआई) द्वारा स्‍थापित हाईटेक केंद्रीय भंडारगृह का उद्घाटन किया। इस हाईटेक केंद्रीय भंडारगृह से देशभर के परियोजना केंद्रों के लिए जनौषधि जीवन रक्षक दवाओं के वितरण की सुविधा होगी।

श्री मनसुख मंडाविया ने कल प्रधानमंत्री भारतीय जनौषधि परियोजना (पीएमबीजेपी) के लिए डिजिटल नकद प्रबंधन प्रणाली का उद्घाटन किया था, जिसे बीपीपीआई और बैंक ऑफ बड़ौदा की साझीदारी से कार्यान्वित किया जा रहा है। बीपीपीआई से दवाओं की खरीद और नकदरहित भुगतान प्रणाली के लिए सभी पीएमबीजेपी केंद्रों पर यह प्रणाली लागू की जाएगी। दवाओं की खरीद के लिए बैंक ऑफ बड़ौदा सभी पीएमबीजेपी केंद्रों को ऋण भी उपलब्‍ध कराएगा। देशभर में प्रत्‍येक पीएमबीजेपी केंद्र के लिए केवल बैंक ऑफ बड़ौदा द्वारा खोले गए यूनिक वर्चुअल खाते के माध्‍यम से नकद रहित लेन-देन हो सकेगा।

श्री मंडाविया ने बताया कि फिलहाल देशभर में 34 राज्‍यों/ केंद्रशासित प्रदेशों में 4200 से अधिक पीएमबीजेपी केंद्र सक्रिय हैं और इनसे निम्‍नलिखित उपलब्धियां प्राप्‍त की गई हैं:

  • पीएमबीजेपी केंद्रों के माध्‍यम से विक्रय के लिए बास्‍केट में 700 से अधिक दवाएं और 154 सर्जिकल और अन्‍य सामग्रियां उपलब्‍ध हैं। शीघ्र ही दवाओं की संख्‍या बढ़ाकर 1000 की जाएगी।
  • बेहतर भंडारण गुणवत्‍ता और उपस्‍कर सेवाएं सुनिश्चित करने के लिए विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन के मार्गनिर्देशों के अनुसार केंद्रीय भंडारगृह स्‍थापित किए गए हैं।
  • एक केंद्रीय भंडारगृह, चार क्षेत्रीय भंडारगृह और विभिन्‍न राज्‍यों में फैले 53 वितरकों का एक वितरण नेटवर्क सक्रिय है।
  • सूचना प्रौद्योगिकी समर्थित एक आधुनिक आपूर्ति श्रृंखला प्रबंधन प्रणाली लागू की गई है।
  • सभी पीएमबीजेपी केंद्रों पर ‘प्‍वाइंट ऑफ सेल’ नामक सॉफ्टवेयर एप्‍लीकेशन लागू किया गया है।
  • इसमें 638 जिले शामिल किए गए हैं, शेष 81 जिले को प्राथमिकता के आधार पर शामिल किया जा रहा है।
  • ‘डिजिटल इं‍िडया’ की अवधारणा कायम रखते हुए सभी आर्थिक लेन-देन डिजिटल रूप से किए जाते हैं।

श्री मंडाविया ने प्रधानमंत्री भारतीय जनौषधि परियोजना की ई-मैगजीन ‘जनौषधि संवाद’ (सितम्बर 2018 संस्‍करण) के पहले संस्‍करण का विमोचन भी किया। उन्‍होंने कहा कि सभी हितधारकों के साथ संवाद कायम करना महत्‍वपूर्ण है और ई-मैगजीन ‘जनौषधि संवाद’ का  प्रकाशन इस दिशा में एक स‍कारात्‍मक कदम है। श्री मंडाविया ने को-ब्रांडिंग स्‍टैंडी का भी उद्घाटन किया, जिसे बैंक ऑफ बड़ौदा की सभी शाखाओं/एटीएम केंद्रों और पीएमबीजेपी केंद्रों द्वारा दर्शाया जाएगा।

इनपुट: रसायन एवं उर्वरक मंत्रालय, भारत सरकार

Advertisements